Home देश फ़िल्म सिटी को यूपी में लाने के लिए मुम्बई पहुंचे योगी आदित्यनाथ...

फ़िल्म सिटी को यूपी में लाने के लिए मुम्बई पहुंचे योगी आदित्यनाथ ने इस एक्टर से की मुलाकात

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाने के ऐलान के बाद यूपी सीएम योगी आदित्‍यनाथ मुंबई पहुंचे। जहां उनके बड़े उद्योगपतियों और बॉलीवुड हस्तियों से मुलाक़ात करने की योजना है। 

तो मंगलवार को मुंबई पहुँचकर सीएम योगी ने मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार से मुलाकात की। वैसे अक्षय के अलावा बोनी कपूर, सुभाष घई समेत कई और फिल्मकारों से मिलने की योजना है। 

ट्राइडेंट होटल में दोनों के बीच मुलाक़ात हुई। साथ ही साथ इस दौरान मशहूर सिंगर कैलाश खेर भी उनसे मिले। मुख्यमंत्री ने अक्षय से मुलाकात के दौरान कहा कि, राज्य में फिल्म शूटिंग होने से स्थानीय लोगों को रोजगार और प्रदेश के कलाकारों को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिल सकेगा। साथ ही प्रदेश में फिल्म शूटिंग करने वाले निर्माताओं को हरसंभव सहयोग और सुविधा दी जाएगी। 

जहां तक बात करे अक्षय की तो उन्होंने फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार के प्रयासों की सराहना की है और यूपी में फिल्म सिटी बनने के विचार पर खुशी जाहिर की। फिल्म इंडस्ट्री के बहुत से नामचीन लोगों ने सीएम योगी के इस फैसले की सराहना की है। लेकिन राजनीतिक स्तर पर इस मुद्दे को लेकर भी मुंबई में सियासत गरमा गई है। कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि, बीजेपी यूपी सरकार के नाम पर अब बॉलिवुड का एक टुकड़ा ले जाने की पटकथा तैयार कर रही है।

खुद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी कह चुके है कि, ‘अगर हिम्मत है, तो योगी फिल्म सिटी को उत्तर प्रदेश ले जाकर दिखाएं। जल्द यह भी कहा है कि, किसी की प्रगति से हमें कोई ईर्ष्या नहीं होती। यदि कोई प्रतियोगिता करके प्रगति करे तो हमें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन यदि आप जबर्दस्ती कुछ ले जाना चाहें तो हम ऐसा नहीं होने देंगे। उनके ऐसे बयानों से साफ पता चल रहा है कि वो यूपी में फिल्म सिटी बनने से खुश नहीं है। 

उद्धव ठाकरे इस बात को लेकर चिंतित है कि, उनके राज्य से बिजनेस को बाहर ले जाया जा रहा है। उनके द्वारा ये कहा जाना कि, ‘जिस धरती पर दादा साहब फाल्के ने फिल्म निर्माण की शुरुआत की थी, वहां मैं किसी भी तरह की कमी नहीं होने दूंगा– से वो इंडस्ट्री को आसवासन देते लगते है। दूसरी तरफ सीएम योगी का कहना है कि, ‘देश को एक अच्छी फिल्म सिटी की जरूरत है। उत्तर प्रदेश यह जिम्मेदारी को लेने के लिए तैयार है।