Home देश कोयला घो’टाला में फंस गए पूर्व केन्द्रीय मंत्री, इतने साल होगी जे’ल

कोयला घो’टाला में फंस गए पूर्व केन्द्रीय मंत्री, इतने साल होगी जे’ल

कोयला भ्रष्टाचार मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप रे समेत तीन अन्य लोगों को दोषी करार दिया गया हैं। जिसके चलते उन्हें 3 साल की सजा सुनाई गई है।

वैसे पिछली सुनवाई में इनपर आरोप साबित हुआ था, लेकिन इस बार वाली सुनवाई में उनकी सजा पर फैसला सुनाया गया।

यह फैसला सीबीआई (CBI) की एक विशेष अदालत ने सुनाया। बता दें कि, यह पूरा मामला साल 1999 में झारखंड के गिरिडीह स्थित ब्रह्मडिहा कोयला ब्लॉक आवंटन में अनियमितताओं से जुड़ा हुआ था। जिस कोयला घोटाले में 6 अक्टूबर को सभी आरोपियों को दोषी करार देने के बाद अब सजा के ऊपर फैसला सुनाया गया है। ये सजा विशेष न्यायाधीश भारत पराशर ने सुनाई है।

इसके साथ ही बता दें कि, पूरे मामले की जांच कर रही सीबीआई ने तो दोषियों के लिए आजीवन कारावास की सजा की मांग थी। जबकि अभियुक्त के वकील सजा में नरमी बरतने का निवेदन किया था। तो कुलमिलाकर सजा के तौर पर तीनों दोषियों को 3 साल की सजा सुनाई गई है। साथ ही तीनों पर 10 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

हालांकि, सुनवाई के बाद अब दिलीप रे के वकील मनु शर्मा ने भी अपनी बात रखी।
उन्होंने कहा कि, हम जमानत के लिए अदालत जा रहे हैं और इस फैसले के खिलाफ अपील भी करेंगे। वैसे इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप रे के साथ ही झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा भी दोषी साबित हुए है। जिनपर तीन साल की जेल की सजा और 25 लाख रुपये का जुर्माना लगा था। साथ ही पूर्व खदान सचिव एचसी गुप्ता को भी तीन साल की जेल और एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था।

यही नहीं अदालत ने कैस्ट्रोन टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (सीटीएल) पर 60 लाख और कैस्ट्रॉन माइनिंग लिमिटेड (सीएमएल) पर 10 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। यानि यह दोनों कंपनियों भी दोषी करार हुई है। इन कंपनी के साथ ही कोयला मंत्रालय के तत्कालीन दो वरिष्ठ अधिकारी प्रदीप कुमार बनर्जी और नित्या नंद गौतम के नाम भी दोषी की लिस्ट में आए हैं।