Home देश महबूबा मुफ्ती के कश्मीर झंडे वाले बयान पर बीजेपी आक्रमक हो सकती...

महबूबा मुफ्ती के कश्मीर झंडे वाले बयान पर बीजेपी आक्रमक हो सकती है ये बड़ी कार्यवाही!

पिछले साल मोदी सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को हटाने पर कश्मीर के कई सियासी चेहरों ने बगावती तेवर अपना लिए थे। 

जिसके चलते वहाँ कई नेताओं को नज़रबंद कर दिया गया। उनमें से एक पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की चीफ महबूबा मुफ्ती का नाम भी है। 

जो फिलहाल 14 महीने तक नज़रबंद रहने के बाद रिहा हो चुकी है। लेकिन बाहर आते ही उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स की और अपना बयान जारी करते हुए मोदी सरकार पर हमला बोल दिया। उनके बयान के बाद अब भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की तरफ से भी उनके खिलाफ एक्शन लिया गया। बता दें कि, बीजेपी ने उनके बयान को देशद्रोही बताया है और मांग उठी है कि, महबूबा मुफ्ती के खिलाफ देशद्रोह के आरोप में कार्रवाई की जाय। 

इन सबके बीच हैरानी वाली बात तो यह रही कि, धारा 370 हटने पर महबूबा की ही जुबान में बात करने वाली कांग्रेस पार्टी ने भी उनके इस बयान की आलोचना की है। महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि, ‘हम राष्ट्रीय ध्वज को तभी उठाएंगे, जब हमारे राज्य के ध्वज को वापस लाया जाएगा। राष्ट्रीय ध्वज केवल इस (जम्मू और कश्मीर) ध्वज और संविधान वजह से है। हम इसी ध्वज के कारण देश के बाकी हिस्सों से जुड़े हुए हैं। 

तो पलटवार करते हुए जम्मू-कश्मीर भाजपा के अध्यक्ष रविन्दर राणा ने कहा कि, ‘मैं लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा जी से अनुरोध करूंगा कि वो इस देशद्रोही टिप्पणी का संज्ञान लें और महबूबा पर देशद्रोह के तहत मुकदमा दर्ज किया जाय और उन्हें सलाखों के पीछे भेजा जाय। वो साथ ही बोले, ‘मैं महबूबा मुफ़्ती जैसे नेताओं को चेतावनी देता हूं कि वे कश्मीर के लोगों को भड़काने की कोशिश न करें। 

रविन्दर राणा ने कहा, हम किसी को भी शांति, सामान्यता और भाईचारे को बिगाड़ने की अनुमति नहीं देंगे। तो इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस समिति (जेकेपीसीसी) के अध्यक्ष रवींद्र शर्मा ने कहा, ‘ऐसे बयान किसी भी समाज में बर्दाश्त करने लायक नहीं हैं और अस्वीकार्य हैं। राष्ट्रीय ध्वज देश के सम्मान का प्रतीक है। उन्हें इस तरह के अपमानजनक बयानों से बचना चाहिए।