Home देश टिकने वाला नहीं कोरोना वैज्ञानिक ने आखिरकार अंत..

टिकने वाला नहीं कोरोना वैज्ञानिक ने आखिरकार अंत..

This photo taken on February 18, 2020 shows members of a police sanitation team spraying disinfectant as a preventive measure against the spread of the COVID-19 coronavirus in Bozhou, in China's eastern Anhui province. - The death toll from China's new coronavirus epidemic jumped past 2,000 on February 19 after 136 more people died, with the number of new cases falling for a second straight day, according to the National Health Commission. (Photo by STR / AFP) / China OUT (Photo by STR/AFP via Getty Images)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की तरफ से कोरोना महामारी को लेकर एक नई जानकारी सामने आई है। डबल्यूएचओ ने कहा, ‘दुनिया की जनसंख्या का बड़ा हिस्सा जोखिम में है’।

साथ ही बताया कि, दुनिया भर में हर 10 में से एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित है। ये जानकारी चिंतित करने वाली और ध्यान देने वाली भी है।

बता दें कि, दुनिया भर में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 35,701,674 हो गई है। इसके अलावा दुनिया भर में 2.68 करोड़ से ज्यादा मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि कोरोना की वजह से 1,045,953 लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। डबल्यूएचओ की तरफ से विशेषज्ञ काफी समय से कहते आ रहे है कि, कोरोना वायरस के मामलों की वास्तविक संख्या आंकड़ों से काफी अधिक हो सकती है।

कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए जिनेवा स्थित मुख्यालय में हुई बैठक में WHO के हेल्थ इमर्जेंसी प्रोग्राम के कार्यकारी निदेशक माइक रयान ने कहा कि, ‘अभी आगामी दस महीने और यह संकट खत्म होने का कोई संकेत नहीं है। कई देशों में कोरोना वायरस नियंत्रण के लिए लगाए गए प्रतिबंधों में ढील के बाद सैकंड वेव आ रही है। इसमें संख्या बढ़ रही है। विश्व की 10 फीसदी आबादी कोरोना वायरस की चपेट में आ गई है’।

वैसे अगस्त महीने में भी डबल्यूएचओ की तरफ से एक परेशान करने वाला बायान आया था। जिसके अनुसार कोरोना वायरस से जल्द छुटकारा मिलने वाला नहीं है। WHO प्रमुख टेड्रोस एडहोम घेब्येयियस ने बयान जारी किया था कि, ऐसी महामारी सदियों में एक बार होती है और इसका प्रभाव आने वाले दशकों तक महसूस किया जाएगा। कई देश जो मानते थे कि उन्होंने कोरोना को पीछे छोड़ दिया है, अब नए मामलों से जूझ रहे हैं’।

उस समय बयान में इतना तक कहा गया था कि, ‘वैक्सीन पर तेजी से काम हो रहा है, लेकिन अब हमें वायरस के साथ जीना सीखना होगा’। अब ताज़ा बयान में माइक रयान ने स्पष्ट किया कि, कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में अलग- अलग है। यह महामारी लगातार बढ़ रही है। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि, ‘हमारे पास ऐसे उपकरण हैं जो वायरस के संक्रमण को काबू करने और लोगों की जान बचाने में सक्षम हैं।